Mukhyamantri SHRAMIK Yojana
मुख्यमंत्री श्रमिक योजना

झारखण्ड राज्य में अकुशल श्रेणी के कामगारों की बड़ी संख्या है, जिनके रोजगार के अवसर सीमित होने के कारण वर्ष भर काम नहीं मिल पाता है। ऐसी स्थिति में उनके समक्ष स्वयं एवं परिवार के जीवकोपार्जन, भरण - पोषण एवं अन्य आर्थिक कठिनाईओं का सामना करना पड़ता है। Covid -19 महामारी के कारण भी झारखण्ड के कामगारों की बड़ी संख्या में देश के अन्य प्रदेशों से राज्य में वापसी हुई है। ।

राज्य सरकार द्वारा शहरी विकास की कई योजनाएँ संचालित की जाती है / की जा रही है यथा - भवनों का निर्माण, सड़कों का निर्माण, साफ़ - सफाई, स्वच्छता आदि से सम्बंधित योजनाएँ, जिनके कार्यान्वयन में अकुशल कामगारों की आवश्यकता होती है। इसके अतिरिक्त शहरी क्षेत्र में हरियाली के विस्तार एवं वातावरण की शुद्धता हेतु पार्कों के रख-रखाव एवं शहरी वनस्पतियों के रख-रखाव एवं अनुरक्षण के लिए भी कामगारों की आवश्यकता होती है। विभिन्न संस्थानों और सार्वजनिक स्थलों को बेहतर रख-रखाव भी राज्य सरकार की प्राथमिकता है।

उपर्युक्त लक्ष्यों की प्राप्ति हेतु झारखण्ड के शहरी क्षेत्रों में निवास करने वाले परिवारों के व्यस्क सदस्यों की आजीविका की सुरक्षा के लिए, जो स्वेक्छा से अकुशल शारीरिक श्रम करने को तैयार है, को एक वित्तीय वर्ष में 100 दिन के रोजगार की गारंटी प्रदान किये जाने की आवश्यकता है